गौडियम केयर आईवीएफ बांझपन दूर करने में होगा कारगर: डॉ विनिता सिंह

गौडियम केयर आईवीएफ बांझपन दूर करने में होगा कारगर: डॉ विनिता सिंह...

पटना: ‘हाल के दौर में बांझपन की दर तेजी से बढ़ रही है। इसका मुख्‍य कारण ल‍ड़कियों की कम उम्र में शादी, प्रदूषण, स्‍ट्रेस एंड स्‍ट्रेन है। हालांकि पटना में आईवीएफ सेंटर्स हैं, मगर उसके अपेक्षा बांझपन की दर काफी बढ़ रही है। इसी को ध्‍यान में रखते हुए पटना में गौडियम केयर आईवीएफ का सेंटर स्‍थापित किया गया है।‘ ऐसा कहना है चर्चित स्‍त्री रोग विशेषज्ञ डॉ विनिता सिंह का। आज पटना के मथुरा रोड, कदमकुआं स्थित अपने केयर नर्सिंग होम में आयोजित संवाददाता सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए डॉ विनिता सिंह ने कहा कि बिहार में बांझपन की समस्‍या तेजी से बढ रही है। इस समस्‍या के समाधन के लिए उन्‍होंने रेनॉड इनफर्टिलिटी और आईवीएफ स्‍पेशियलिस्‍ट डॉ मनिका खन्‍ना के साथ मिलकर पटना में एक गौडियम केयर आइवीएफ सेंटर की स्‍थापना की, जो विश्‍वभर में भारत की पहली अस्‍पातल श्रृंखला है। श्रीमति सिंह ने बताया कि बिहार बॉग्‍स्‍कॉन सोसाइटी के कांफ्रेंस में हिस्‍सा लेने आईं डॉ खन्‍ना ने बताया था कि बड़ी संख्‍या में बांझपन की समस्‍या से जूझ रहे नि:संतान दंपत्ति उनसे दिल्‍ली में संपर्क करते हैं। इसलिए उनकी सोच थी कि क्‍यों ना बिहार में भी इसका एक सेंटर स्‍थापित किया जाए। डॉ सिंह ने कहा कि कांफ्रेंस के दौरान ही डॉ खन्‍न ने गौडियम केयर आईवीएफ की स्‍थापना इस्‍ट जोन खास कर बिहार में करने की इच्‍छा जाहिर की और हमारे सेंटर से संपर्क किया। फिर हमने मिलकर गौडियम केयर आईवीएफ पटना में शुरू की। इससे उनलोगों की कई परेशानियां कम होगी, जो दिल्‍ली जाकर इलाज कराने में होती थी। उन्‍होंने कहा कि गौडियम केयर आईवीएफ में पहला फ्री चेक कैंप चार फरवरी 2017 को आयोजित किया जा रहा है, जिसमें डॉ मनिका खन्‍न अपनी एक्‍सपर्ट टीम के साथ शामिल होंगी। इस दौरान आईवीएफ...
  SWADES KI KHAATIR GETS SUBSIDY FROM UP Govt. 

  SWADES KI KHAATIR GETS SUBSIDY FROM UP Govt. ...

Akhilesh Yadav, the dynamic CM of Uttar Pradesh has handed over the subsidy cheque to producer-director Maan Singh of Sheetal Movie Temple’s SWADES KI KHAATIR . The film is all set for April release all over and is a patriotic film which highlights the people of Uttar Pradesh in a big way. Mukesh Khanna(Shaktimaan fame) ,in the role of a school teacher leads the cast of the film  which has been shot entirely in Benaras locales for 30 days . The entire talkie portion  and all the six songs were  picturised on new leading actors Pramod Singh, Sushant Singh, Maan Singh, newfind heroine Ila Pande from Benaras, Raza Murad and Mukesh Khanna.  The film is being written,produced and directed by Maan Singh ( of Bhojpuri film GANGA MAAI…,Hindi film SANT RAVIDASS fame). Lyrics:  Gayatri Singh. DoP: Randdev Bhaduri ( brother of actress Reeta Bhaduri) Music: Late  Josfi- Sunil Singh. Singers: Late Josfi, Anupama Deshpande, Vinod Rathod, Vaishali Samant, Prashant Singh and...
 बिहार में बनी दुनिया की सबसे लंबी मानव श्रृंखला, सेटेलाईट से की गई विडियोग्राफी:

 बिहार में बनी दुनिया की सबसे लंबी मानव श्रृंखला, सेटेलाईट से की गई विडियोग्राफी:...

आज दिनांक 21/01/2017 को मानव श्रीखला में शामिल हो वार्ड पारसद मणि भूषण श्रीवास्तव सह वरिये नेता (राजद) साथ में पूर्व विधायक महेस्वर सिंह, जिला पारसद रोहित गिरी ,रवि शंकर सिंह, कैप्टेन हमीद और साथ में जदयू नेता सतेंदर ओझा और संजय कुमार उपाधयाय ने एक साथ मिल के नसा मुक्ति के इस अभियान को सफल बनाया पटना: शराब जानलेवा है इस सन्देश को जन-जन तक पहुचाने के लिए बिहार में एक अनूठा प्रयास किया गया। यहाँ शराबबंदी के समर्थन में 11000 किलो मीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई। जो दुनिया की सबसे लंबी मानव श्रृंखला है। मानव श्रृंखला बनाते वक़्त लोगों में दिखा जोश.. श्रृंखला बनाने से पहले राज्य सरकार की तरफ से शुक्रवार को कहा गया था कि इसमें स्कूली बच्चों और अन्य लोगों का शामिल होना ज़रूरी नहीं है। वहीँ राज्य के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने पटना में पत्रकारों को जानकारी दी थी कि इस श्रृंखला में लोगों का शामिल होना ऐच्छिक है। जिन्हें इच्छा हो वो शराबबंदी के समर्थन में बनाई जा रही इस श्रृंखला में शामिल हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि लोगों को जबरन श्रृंखला में शामिल होने को लेकर किसी तरह का दबाव नहीं बनाया जाएगा। 11000 किलोमीटर लंबी इस मानव श्रृंखला में लगभग 2 करोड़ लोगों ने भाग लिया, जोकि एक विश्व रिकॉर्ड है। इसके लिए लिमका बुक ऑफ रिकॉर्ड में पंजीकरण कराया गया है। इस मानव श्रृंखला की फोटोग्राफी इसरो और अंतर्राष्ट्रीय 5 सेटेलाईट के जरिए किया गया। जिसमें दो इसरो के हैं। इसके अतिरिक्त सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के माध्यम चार हेलिकॉप्टर के द्वारा और प्रत्येक जिले में ड्रोन के जरिए मानव श्रृंखला की एरियल विडियोग्राफी की गई है। शिक्षाविद् प्रो. आर के दूबे ने कहा कि कहीं-कहीं तो दो-दो, तीन-तीन लाईनें देखी गयीं । अगर सिर्फ एक...
लक्ष्मीनारायण ग्लोबल म्यूजिक फेस्टीवल २५ वें संस्करण १३ जनवरी को ७ बजे मुंबई के किंग सर्कल स्थित षमुखानंद हॉल में होगा .

लक्ष्मीनारायण ग्लोबल म्यूजिक फेस्टीवल २५ वें संस्करण १३ जनवरी को ७ बजे मुंबई के किंग सर्कल स्थित षमुखानंद हॉल में होगा ....

यह फेस्टीवल २२ देशों के ५५ शहरों मं आयोजित किया गया था और इस साल अमेरिका, यूके और जर्मनी में होगा. संगीत के लिए दुनिया में जाने-पहचाने और अंतरराष्ट्रीय संगीत प्रतिभा का एक छत के नीचे सबसे अच्छा प्रदर्शन होगा  — जैसे कि शास्त्रीय संगीत से जैझ तक। लक्ष्मीनारायण ग्लोबल म्यूजिक फेस्टीवल २५ वें संस्करण १३ जनवरी को ७ बजे मुंबई के किंग सर्कल स्थित षमुखानंद हॉल में होगा। यह कार्यक्रम भगवान येहुदी मेनुहिन के जन्म शताब्दी को समर्पित किया जाएगा, यह २०वीं सदी के सबसे अच्छे वायलिन वादक थे। भारतरत्न एमएस सुबुलक्ष्मीइन द्वारा साल १९९२ में वायलिन लीजेंड डॉ एल सुब्रमण्यम और विजी सुब्रमण्यम ने लक्ष्मीनायारण ग्लोबल म्यूजिक फेस्टीवल (LGMF) की स्थापना की गई थी। इसमें म्यूजिक इंडस्ट्री के बड़े नाम शामिल है जैसे कि येहुदी मेनुहिन, बिसमिल्लाह खान, गंगुबाई हंगल, पंडीत जसराज,जॉ़र्ज डुके, स्टेनेली क्लाके, अल-जरैयू, स्टीवन सीगल और सिम्फनी आर्केस्ट्रा। LGMF का नाम सिर्फ संगीत समारोह के लिए सीमित नहीं है, बल्कि दुनिया भर से प्रतिभा का प्रदर्शन और संगीत के असंख्य शैलियों के लिए एक मंच प्रदान करने में सक्षम हो गया है। इस संगीत में भारतीय शास्त्रीय (कर्नाटक और हिन्दुस्तानी), जैझ, रॉक, पश्चिमी शास्त्रीय संगीत,  आर्केस्ट्रा, भारतीय लोकसंगीत, गजल, हिंदी फिल्म संगीत, पांच अलग-अलग महाद्वीपों से अलग शास्त्रीय और लोकसंगीत की शैलियां शामिल है। इस साल के संस्करण की शुरुआत ग्लोबल फ्यूजक म्यूजिक के साथ अंतरराष्ट्रीय कलाकार और डॉ एल सुब्रमण्यम से होगी : • कविता कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम • वेडिम रेपिन (वायलिन वादक और फ्रांस के सबसे प्रतिष्ठित संगीत पुरस्कार के प्राप्तकर्ता, संगीत के लिए एक जीवन भर के समर्पण के लिए – द विक्टोरियड हॉर्नर) • स्वेटलेना स्मोलिना ( “उत्कृष्ट स्वर के साथ एक उत्कृष्ट पियानोवादक” और सहित वैश्विक चरणों पर अक्सर खिलाड़ी के रूप में लॉस एंजिल्स टाइम्स द्वारा स्वागत – कार्नेगी हॉल, साल्जबर्ग फेस्टीवल और हॉलीवुड बाउल) • एओडिन सैन्डविक (यूरोप के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में से...
350वें प्रकाशोत्‍सव पर दिखा सांस्‍कृतिक विविधताओं का समागम : शिवचंद्र राम  

350वें प्रकाशोत्‍सव पर दिखा सांस्‍कृतिक विविधताओं का समागम : शिवचंद्र राम  ...

  पटना : कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग के द्वारा 350वें प्रकाशोत्‍सव के मौके पर राजधानी पटना में बड़े पैमाने पर आयोजित सांस्‍कृतिक कार्यक्रम के पांचवें दिन आज कलाकारों ने लोगों का भरपूर मनोरंजन किया। जहां मुख्‍यमंत्री श्री नीतीश कुमार आज पंजाब डिजिटल लाइब्रेरी के सहयोग से चित्र प्रदर्शनी बिहार संग्रहालय में आयोजित चित्र प्रदर्शनी देखने पहुंचे, वहीं, प्रेमचंद रंगशाला राजेंद्र नगर पटना में बतौर प्रथम दर्शक कला, संस्‍कृति विभाग के मंत्री श्री शिवचंद्र राम भी शामिल हुए। कार्यक्रम में विभाग के प्रधान सचिव चैतन्‍य प्रसाद, अपर सचिव आनंद कुमार, संस्‍कृति निदेशक सत्‍यप्रकाश मिश्रा, बिहार ललित कला अकादमी के अध्‍यक्ष आलोक धन्‍वा, आईपीएस हिमांशु त्रिवेदी, तारानंद वियोगी  अतुल वर्मा, संजय कुमार, अरविंद महाजन, मोमिता घोष, राजकुमार झा और मीडिया प्रभारी रंजन सिन्‍हा भी उपस्थित रहे। गौरतलब है कि प्रकाशोत्‍सव के मौके पर कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग, बिहार ने श्री कृष्‍ण मेमोरियल हॉल, भारतीय नृत्‍य कला मंदिर, बहुद्देशीय सांस्‍कृतिक परिसर, प्रेमचंद रंगशाला, रविंद्र भवन, बिहार संग्रहालय और बिहार चैंबर ऑफ कॉमर्स ऑडिटोरियम में बड़े पैमाने पर सांस्‍कृतिक कार्यक्रम व प्रदर्शनी का आयोजन किया है।          प्रेमचंद रंगशाला में पांचवें दिन की शुरूआत हिमांशु त्रिवेदी के काव्‍य पाठ से हुई। इसके पहले विभाग के मंत्री श्री शिवचंद्र राम ने कहा कि बिहार की ऐतिहासिक धरती गुरू गोविंद सिंह जी के 350वें प्रकाशोत्‍सव काफी हर्षोल्‍लास से मना रहा है। यह हर बिहारवासियों के लिए बड़े ही सौभग्‍य की बात है। उन्‍होंने कहा कि कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग ने बाहर से आए श्रद्धालुओं और दर्शन को अन्‍य लोगों के मनोरंजन के लिए सांस्‍कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया है, जिसमें एक स्‍थान पर गुरू गोविंद सिंह जी की जीवनी और देशभर के सांस्‍कृतिक विविधताओं का समागम है। वहीं, पटना के सुरेंद्र नारायण यादव ने रंग – ए – बिहार कार्यक्रम के...
Children of ‘Madhyamik Ashramshaala Parli’ Received New Year Gifts from Radhe Guru Maa Charitable Trust

Children of ‘Madhyamik Ashramshaala Parli’ Received New Year Gifts from Radhe Guru Maa Charitable Trust...

HE GOVT IS UNAWARE OF THE LACK OF FACILITIES AT SCHOOL FOR AADIVASI CHILDREN MUMBAI: On the occasion of New Year, different people celebrate in different ways but the people at Shri Radhe Guru Charitable Trust celebrated the New Year in very unique style. On 1st January 2017, they went to the Aadivasi children’s school ‘Madhyamik Ashramshaala Parli’ in Wada Taluka at Parli in Palghar(Maharashtra) and distributed blankets, books and copies as gifts when they came to know  that in winter, the poor children there do not have proper clothes to wear to ward off the chilling cold weather. The people of the Trust often go there and to other places nearby to offer help.   On behalf of the Trust, Sanjeev Gupta says, “We are always at the service of the people at large. It was indeed an overwhelming experience to spend our time with the children at the Madhyamik Ashramshaala Parli there. There is lack of facilities for living, reading, eating, drinking as well as tools for studies and the government should concentrate on them and ameliorate their living conditions. According to Radhe Maa, service to the people is also one kind of worshipping God. All of us help the needy by organizing different kind of programmes. If we have been gifted with lives as human beings by God, we should not let it go to waste and help people around us and be of use to them. The day we start helping people nearby us, the society we live in and the villages in which we live, there will be a positive change as far as the nation is concerned and hardly any one will be sad or face harsh difficulties. We should forget mutual hatred for each...